Blog

कोई उम्मीद

कोई उम्मीद ना थी बाकी अब उनके आने की...... ना थी मालूम कोई वजह उनके चले जाने की...... वक्त ठहेरा ठहेरा सा अब तो है लगे तिनका तिनका बिखरा सा क्यों लगे टूटे सारे सपने जो थे हमने सजाये यादें बस उनकी अब हमें तो रुलाए कोई उम्मीद ना थी बाकी अब उनके आने की...... … Continue reading कोई उम्मीद

CORONA–Parody-Bada Pachtaoge

Ho Ghar Se Ghumne, Jo Tum Jaaoge Jo Tum Jaaoge, Jo Tum Jaaoge Ho Ghar Se Ghumne, Jo Tum Jaaoge Bada Pachtaoge, Bada Pachtaoge Caller Tune Wali Baat, Didi Ki Mano Shardi Khansi Ho Agar, Rumal Use Karo Caller Tune Wali Baat, Didi Ki Mano Thodi Thodi Der Me Tum Hand Wash Karo Ho Shakehand … Continue reading CORONA–Parody-Bada Pachtaoge

पास मेरे आ जाओ

कहने को तो कुछ भी नहीं है अरमां दिल के अब भी वही है खामोशी की ज़ुबां समझकर आँखों से इस दिल में उतरकर पास मेरे तुम आ जाओ थोड़े पास मेरे आ जाओ और हमें ना यूँ तडपाओ पास मेरे तुम आ जाओ चंद लम्हें किस्मत से मिले है गुलशन में भी फूल खिले … Continue reading पास मेरे आ जाओ

कोई ना जाने

कोई ना जाने ये क्या हो गया दिल ये दीवाना कैसे खो गया चाहत में तेरी मदहोश हो गया ना जाने कैसे यह कब हो गया कोई ना जाने ये क्या हो गया..... बैरी ज़माना चाहे जो भी कहे दिल का फ़साना अब मिट ना सके दामन यह तेरा ना छुटे कभी दुनिया की रश्मे … Continue reading कोई ना जाने

ना रहा हक़

ना रहा हक़ मेरा तुमपे कोई ना छुपी बात अब हमसे कोई वो कसमें वादें किये थे जो रही ना उनकी भी कीमत कोई कहता रहा मैं खुदसे हरदम होगी मेरी ही गलती कोई वक्त का यह हसीं कैसा सितम कुर्बत में तेरी है अब कोई रंग लाई देखो क्या मेरी वफ़ा समझा क्या और … Continue reading ना रहा हक़

મારી મહેક

મારા અસ્તિત્વની ખાસિયત એ છે કે મારું જીવન ચક્ર બહુ નાનું છે અને તેથી જ મને ખીલવા કે મુરઝાવાનો  જરા પણ ડર નથી. જીવન ચક્રના જે તબક્કામાં હોઉ તેનો હું પૂરેપૂરો સ્વીકાર કરું છું અને મારી સુગંધ, મારા રંગ, મારી સુંદરતા આ કુદરતને સમર્પિત કરું છું. મને ખબર છે કે હું સુંદર દેખાઉ છું અને … Continue reading મારી મહેક

Ho Raha Hai Kya(हो रहा है क्या)

हो रहा है क्या, दिल को हो रहा है क्या खो रहा है क्यों, चैन खो रहा है क्यों दिल में मेरे कुछ ऐसा हुआ, जो न पहले हुआ था कभी धड़कन बढ़ने लगी, साँसे थमने लगी पहले से ज़्यादा राते, लंबी लगने लगी हो रहा है क्या, दिल को हो रहा है क्या..... हाँ … Continue reading Ho Raha Hai Kya(हो रहा है क्या)

प्लास्टिक को कहे “नो”

जीवन मृत्यु सब ईश्वर की इच्छा यह बात नहीं मैं मानता क्या भला क्या बुरा है यारो वो भी नहीं मैं जानता रोज़मर्रा के जीवन में जो यूझ करता हूँ प्लास्टिक का अनजाने में वह ही बना है संकट आज जीवन का कूड़ेदान में न फेंकने से और रीसाईकल न हो पाने से घुल जाता … Continue reading प्लास्टिक को कहे “नो”

Iss Dil Ki Baat

Aankhen Meri Kuch Keh Rahi Tujse Yeh Kyo Hat ti Nahi Baaton Me Teri Main Khoyi Rahu Tum Bin Shaame Dhalti Nahi Kahun Bhi To Kaise Iss Dil Ki Baat Rahu Bhi To Kaise Bin Kahe Jazbaat Kahun Bhi To Kaise Iss Dil Ki Baat Rahu Bhi To Kaise Bin Kahe Jazbaat Yaaden Meri Hai … Continue reading Iss Dil Ki Baat